11 वीं शताब्दी में भारत के राज्य और महमूद गजनवी के आक्रमण

11 वीं शताब्दी की शुरुआत में, भारत में राजनीतिक स्थिति बहुत अस्थिर थी। उस समय भारत कई छोटे राज्यों में विभाजित था। विभिन्न शासकों के बीच सत्ता के लिए हमेशा संघर्ष होता रहा। सही या गलत, यह विवाद युद्धों द्वारा सुलझाया जाता था।

उस समय देश इतना शक्तिशाली नहीं था। लोगों में राष्ट्रीय भावना की कमी थी। अपने स्वार्थ के कारण, वे दूसरे शासक के बैनर तले मिलकर लड़ने को तैयार नहीं थे। परिणामस्वरूप, तुर्की आक्रमणों से भारतीय शासकों को एक के बाद एक पराजय मिली।

11 वीं शताब्दी में  भारत के राज्य

11 वीं शताब्दी में भारत के प्रमुख राज्य का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है।

हिंदू राज्य ( Hindushahi Kingdom)-

हिंदू शाही की गिनती उत्तर भारत के महत्वपूर्ण राज्यों में होती है। राजवंश की स्थापना 865 ई. में कलार नामक ब्राह्मण मंत्री ने की थी। यह राज्य बहुत बड़ा था। यह चिनाब नदी से हिंदू कुश पर्वत तक फैला हुआ था। यह काबुल और पेशावर राज्य का हिस्सा थे। इस राज्य की राजधानी वाहिंद थी। अरब शासक हिंदू राज्य को जीतने में विफल रहे।

महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय, एक हिंदू राज्य और जयपाल नाम का एक शासक था। वह एक महत्वाकांक्षी शासक था। वह महमूद गजनवी के पिता सुबुक्तगीन से दो बार हार गए थे। सीमावर्ती राज्य होने के नाते, हिंदू शाही राज्य सबसे पहले महमूद गजनवी के हमलों का सामना कर रहा था।

मुल्तान और सिंध ( Multan and Sind)-

11 वीं शताब्दी की शुरुआत में, मुल्तान और सिंध पर मुसलमानों का शासन था। मुल्तान उस समय अबुल फतह दाऊद द्वारा शासित था। वह कर्मठी संप्रदाय का था। सिंध पर अरबों का शासन था। राज्य में महमूद गजनवी के हमलों का सामना करने की ताकत नहीं थी।

कश्मीर ( Kashmir)-

महमूद गजनवी के भारत पर आक्रमण के समय कश्मीर पर उत्पल वंश का शासन था। इस वंश की स्थापना 855 ईस्वी में अवंती वर्मन ने की थी। इस वंश के शासक काशम गुप्त ने कश्मीर में उल्लेखनीय सुधार किए। 958 ई. में कश्मीर की रानी दीदा ने कश्मीर की बागडोर संभाली। रानी दीदा हिंदू राजवंश की राजकुमारी थीं।

वह एक कुशल शासक थी। अपने शासनकाल के दौरान उन्होंने कश्मीर को समृद्धि के शिखर पर पहुंचाया। 1003 ई। में रानी की मृत्यु के बाद, उसका भतीजा संग्रामराज कश्मीर का नया शासक बना। उसने कश्मीर में लोहार वंश की स्थापना की। इस राजवंश के शासकों ने कश्मीर घाटी में मुस्लिम आक्रमणकारियों के प्रयासों को सदियों तक विफल किया।

कन्नौज ( Kanauj)-

11 वीं शताब्दी की शुरुआत में, कन्नौज पर प्रतिहार वंश का शासन था। इस राजवंश की स्थापना 725 ईस्वी में नागभट्ट प्रथम ने की थी। इस वंश का शासक मिहिरभोज सबसे महान और शक्तिशाली था। मिहिरभोज ने न केवल अपनी सीमाएं बढ़ाईं, बल्कि एक कुशल शासन प्रणाली भी लागू की।

कन्नौज महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय राज्यपाल के अधीन था। गवर्नर ने दो बार हिंदू शासकों को गजनवी हमलों के खिलाफ सहायता प्रदान की थी। इन दोनों लड़ाइयों में हिंदू शाही शासकों को मरना पड़ा। इन पराजयों का कन्नौज पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।

मालवा ( Malwa)-

महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय, मालवा परमार वंश का शासन था। इस राजवंश की स्थापना 9 वीं शताब्दी की शुरुआत में कृष्णराज ने की थी। 11 वीं शताब्दी की शुरुआत में यहां सिंधुराज  शासन किया। उसने 995 ई. से 1018 ई. तक शासन किया। वह एक कुशल शासक साबित हुआ। उनका उत्तराधिकारी भोज परमार वंश का सबसे प्रसिद्ध शासक था।

अपने शासनकाल (1018 – 1060 ईस्वी) के दौरान, मालवा ने विभिन्न क्षेत्रों में आश्चर्यजनक प्रगति की, वे कला और साहित्य के भी महान प्रेमी थे। उन्होंने सभी धर्मों के प्रति सहिष्णुता की नीति अपनाई। प्रसिद्ध इतिहासकार डॉ. एस. एन सेन के शब्दों में, उनके कई गुणों के कारण, उन्हें मध्यकालीन भारत के महान शासकों में गिना जा सकता है।

गुजरात ( Gujarat)-

महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय गुजरात पर सोलंकी वंश का शासन था। इस वंश की स्थापना मूलराज ने दसवीं शताब्दी के मध्य में की थी। उनकी राजधानी अन्हिलवाड़ा थी। 1025 ईस्वी में महमूद गजनवी के गुजरात पर आक्रमण के समय, इस पर भीमदेव प्रथम का शासन था। इसलिए, उनके पास महमूद गजनवी के हमले का सामना करने की हिम्मत नहीं थी।

बंगाल ( Bengal )- 

महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय, बंगाल पर पाल वंश का शासन था। इस वंश की नींव 8 वीं शताब्दी में गोपाल ने रखी थी। उनका उत्तराधिकारी धर्मपाल वंश का सबसे प्रसिद्ध शासक था। अपने शासनकाल के दौरान, उन्होंने पाल साम्राज्य को एक साम्राज्य में बदल दिया।

महिपाल प्रथम (988 – 1038 ईस्वी) महमूद गजनवी का समकालीन था। वह बंगाल के गौरव को पुनर्स्थापित करना चाहता था। राजेंद्र चोल ने अपने शासनकाल के दौरान बंगाल पर आक्रमण किया और उस पर भारी नुकसान पहुंचाया। सौभाग्य से, महमूद गजनवी ने बंगाल पर कब्जा कर लिया।

बुंदेलखंड ( Bundelkhand)-

11 वीं शताब्दी में, बुंदेलखंड पर चंदेल वंश का शासन था। इस राजवंश की स्थापना 9 वीं शताब्दी की शुरुआत में नानक चंदेल ने की थी। चंदेला की राजधानी खजुराहो नहीं थी। महमूद गजनवी के भारतीय आक्रमणों के दौरान राजा गांधी ने बुंदेलखंड पर शासन किया। वह एक शक्तिशाली शासक था और उसके तहत बुंदेलखंड का सर्वांगीण विकास हुआ। राजा गंड के बड़े बेटे ने महमूद गजनवी के खिलाफ कायरता से बाहर कन्नौज के शासक राजपाल की हत्या कर दी थी।

अन्य राज्य ( Other Kingdoms)-

उपरोक्त प्रमुख राज्यों के अलावा, उस समय उत्तर भारत में कई अन्य छोटे राज्य थे, जैसे ग्वालियर, थानेसर, बुलंदशहर और चेंडी। यहां तक ​​कि यहां के शासक भी इतने मजबूत नहीं थे कि महमूद गजनवी का सामना कर सकें।

   11 वीं शताब्दी में दक्षिण भारत के राज्य

11 वीं शताब्दी में, केवल दो राज-चोल और चालुक्य, दक्षिण भारत में प्रमुख थे। इन राजाओं का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है।

चोल साम्राज्य ( The Chola Kingdom)-

दक्षिण भारत का चोल राज्य महमूद गजनवी के आक्रमणों के समय सबसे प्रसिद्ध था। चोल साम्राज्य की स्थापना 850 ई. में विजयालय ने की थी। इसकी राजधानी तंजौर नहीं थी। राजराज प्रथम  (985 – 1014 ईस्वी) और राजिंदर प्रथम (1014 – 1044 ईस्वी) चोल वंश के दो महान शासक और महमूद गजनवी के समकालीन थे। चोल साम्राज्य को साम्राज्य में बदलने का श्रेय राजराज प्रथम को जाता है। उसने चेर, गंगा, कलिंग और पश्चिमी चालुक्य को हराया।

उन्होंने श्रीलंका के शासक महिंदा वी को हराया और पूरे उत्तरी श्रीलंका पर विजय प्राप्त की। उनके उत्तराधिकारी राजिंदर प्रथम ने भी चोल साम्राज्य की शक्ति और गौरव की वृद्धि में एक सराहनीय योगदान दिया। उसने केरल, पश्चिम चालुक्य, गंगा, श्री विजय और श्रीलंका के शासकों को पराजित किया और चोल साम्राज्य के लिए अपने क्षेत्र का विस्तार किया।

उत्तरी चालुक्य राज्य ( The Later Chalukya Kingdom)-

11 वीं सदी में उत्तर चालुक्य दक्षिण भारत का दूसरा सबसे प्रसिद्ध राज्य था। राज्य की स्थापना 973 ईस्वी में तैल तीसरे के द्वारा की गई थी। उसने 997 ई. तक शासन किया। उनकी राजधानी कल्याणी नहीं थी। सत्यस्य (997 – 1008 ईस्वी), विक्रमादित्य पंजवा (1008 – 1016 ईस्वी) और जय सिंह द्वितीय (1016 – 1042 ईस्वी) महमूद गजनवी के समकालीन शासक थे। दक्षिण में, उत्तर चालुक्य और चौला में संप्रभुता के लिए उग्र संघर्ष जारी रहा।

अन्य राज्य ( Other Kingdoms)- 

उपरोक्त राज्यों के अलावा, चेर और पांडे राज्य भी दक्षिण भारत में स्थित थे। ये राज्य बहुत महत्वपूर्ण नहीं थे। उपर्युक्त विवरण से स्पष्ट है कि महमूद गजनवी के हमलों के समय भारत की राजनीतिक स्थिति दयनीय थी।

देश में ऐसा कोई शासक नहीं था जो संघर्षरत शासकों को नियंत्रित कर सके और विदेशी आक्रमणकारियों के खिलाफ उनका समन्वय कर सके। अपनी दूरदर्शिता के कारण, दक्षिण भारत के शासक उत्तर भारत के घटनाक्रमों के बारे में चिंतित नहीं थे। ऐसी स्थिति महमूद गजनवी के हमलों के लिए उपयोगी साबित हुई।

महमूद गजनवी द्वारा किए गए हमले ( Invasions Of Mahmud Ghaznavi)-

महमूद गजनवी गजनी का एक शासक था। उसने 998 ई. से 1030 ई. तक शासन किया। अपनी स्थिति मजबूत करने के बाद, उन्होंने अपना ध्यान भारत की ओर लगाया। उन्होंने 1000 ईस्वी और 1027 ईस्वी के बीच 17 बार मध्य भारत पर आक्रमण किया।

इन सभी हमलों में महमूद गजनवी सफल रहा। इन हमलों के साथ, एक ओर महमूद गजनवी की प्रतिष्ठा और दूसरी ओर, वे भारत के लिए विनाशकारी साबित हुए। इन हमलों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है।

पहला आक्रमण 1000 ई: ( First Invasion 1000)-

महमूद गजनवी ने सितंबर 1000 ई: में भारत पर अपना पहला आक्रमण किया। यह हमला पंजाब की उत्तर-पश्चिमी सीमा तक सीमित था। इसलिए, कुछ इतिहासकार इस हमले को ज्यादा महत्व नहीं देते हैं।

दूसरा आक्रमण 1001 ई :(Second Invasion 1001)-

महमूद गजनवी ने 1001 ई : में पंजाब के हिंदू शासक जयपाल पर हमला किया। कारण, यह था कि जयपाल महमूद किसी भी समय गजनवी सत्ता को चुनौती दे सकते थे। इसलिए अपनी प्रतिष्ठा के लिए उसने एक बड़ी सेना के साथ हिंदू शाही राज्य की राजधानी वाहिंद पर हमला किया। इस भीषण युद्ध में जयपाल की हार हुई और उसे बंदी बना लिया गया।

जयपाल इस अपमान को सहन नहीं कर सके और उनकी मृत्यु हो गई। इस प्रकार हिंदू शाही वंश के इस महान शासक का अंत हुआ। उनकी मृत्यु के बाद, उनके पुत्र आनंदपाल 1002 ईस्वी में सिंहासन पर बैठे।

तीसरा हमला 1004 ई : ( Third Invasion 1004)-

महमूद गजनवी ने 1004 ई : में भीरा के शासक बीजी राय पर अपना तीसरा हमला किया। उन्होंने महमूद गजनवी की सेना के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया लेकिन अंत में हार गए। उसने मुसलमानों द्वारा अपमानित होने के बजाय आत्महत्या करना पसंद किया।

चौथा आक्रमण 1006 ई : ( Fourth Invasion 1006)-

महमूद गजनवी ने मुल्तान पर अपना चौथा हमला किया। उस समय यह अबुल फतेह दाऊद द्वारा शासित था। वह कर्मठी संप्रदाय का था। महमूद गजनवी को इस संप्रदाय से सख्त नफरत थी। उन्होंने भेड़ा  पर हमले के दौरान महमूद गजनवी की सेना को भी रोका। इसलिए महमूद ने मुल्तान पर हमला करने का फैसला किया।

दाऊद ने बहादुरी से महमूद की सेना का सामना किया लेकिन वह हार गया। महमूद ने मुल्तान पर अधिकार कर लिया। महमूद ने आनंदपाल के बेटे सुखपाल को मुल्तान का गवर्नर नियुक्त किया। सुखपाल ने इस्लाम धर्म अपना लिया था।

पाँचवाँ आक्रमण 1007 ई: ( Fifth Invasion 1007)-

महमूद गजनवी की गजनवी में वापसी के कुछ समय बाद, सुखपाल ने इस्लाम त्याग दिया और अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की। सुखपाल को सबक सिखाने के लिए महमूद ने 1007 ई. में फिर मुल्तान पर हमला किया। उसने सुखपाल को हराया और उसे कैदी बना लिया। इसके बाद शहर में लूट मार की गई ।

छठा आक्रमण 1008 ई : ( Sixth Invasion 1008)-

पंजाब के हिंदू शासक, आनंदपाल महमूद, भारत में गजनवी की तेजी से उन्नति को रोकना चाहते थे। इसलिए उन्होंने भारतीय शासकों से एक झंडे के नीचे आने की अपील की। परिणामस्वरूप, ग्वालियर, कन्नौज, उज्जैन, कलिंगार, दिल्ली और अजमेर के शासकों ने आनंदपाल का समर्थन किया। इस प्रकार आनंदपाल के अधीन एक बड़ी सेना एकत्रित हो गई।

यह संघ महमूद गजनवी की शक्ति के लिए एक चुनौती थी। बेशक, महमूद गजनवी इस शक्ति को सहन करने के लिए तैयार नहीं था। उसने विशाल सेना के साथ वाहिंद पर हमला किया। इस भयंकर युद्ध में आनंदपाल को करारी हार का सामना करना पड़ा। इस शानदार जीत ने महमूद की प्रतिष्ठा को बहुत बढ़ाया।

इस जीत के कारण उसने पंजाब पर नियंत्रण हासिल कर लिया। प्रसिद्ध इतिहासकार एस. आर शर्मा के अनुसार, राष्ट्रीय आधार पर सबसे संगठित, दृढ़ और बड़े पैमाने पर विदेशियों के खिलाफ मध्य युग में भारत के हिंदुओं द्वारा ऐसा प्रयास विफल रहा।

सातवाँ आक्रमण 1009 ई: ( Seventh Invasion 1009)-

आनंदपाल पर अपनी जीत से उत्साहित होकर महमूद गजनवी ने 1009 ई :  में नगरकोट पर आक्रमण किया। नगरकोट के लोगों ने जल्द ही महमूद गजनवी की अधीनता स्वीकार कर ली। इसके बाद महमूद गजनवी ने नगरकोट के मंदिरों को लूट लिया और वहाँ से असंख्य धन प्राप्त किया।

इनके अलावा, इस लूटपाट में, मुसलमानों को मध्य एशिया के लोगों के हाथों में कुछ दुर्लभ वस्तुएँ मिली जिन्हें पहले नहीं देखा गया था। इस विशाल संपत्ति की झलक के लिए बड़ी संख्या में मुस्लिम देशों के लोग ग़ज़नी आए।

आठवां आक्रमण 1009 ई: (Eighth Invasion 1009)-

1009 ई. में आपने आठवें हमले दौरान महमूद गजनवी ने नारायणपुर (राजस्थान) के शासक को हराया और अपनी अधीनता स्वीकार करने के लिए मजबूर किया।

नौवाँ आक्रमण 1010 ई : ( Ninth Invasion 1010 )-

मुल्तान में, अबुल फतेह दाऊद ने महमूद गजनवी के खिलाफ अपनी गतिविधियों को फिर से शुरू किया। इसलिए महमूद ने मुल्तान पर हमला किया और उसे हरा दिया।

दसवां आक्रमण 1013 ई : ( Tenth Invasion 1013)-

महमूद गजनवी ने 1013 ई: में थानेश्वर पर आक्रमण किया। थानेश्वर हिंदुओं का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल था। कई मंदिर स्थित थे जहाँ पर महमूद को अपार धन मिल सकता था। महमूद ने एक बड़ी सेना के साथ यहाँ हमला करके लोगों को चौंका दिया। इसलिए वे जगह की रक्षा नहीं कर सके। महमूद ने बड़ी संख्या में हिंदुओं को मार डाला। तब महमूद ने मनमाने ढंग से थानेश्वर को लूट लिया और कई मंदिरों को नष्ट कर दिया। इस हमले में उन्हें बड़ी रकम मिली।

ग्यारहवां हमला 1014 ई: ( Eleventh Invasion 1014)-

महमूद गजनवी से हारने के बाद, आनंदपाल ने हार नहीं मानी। उन्होंने नंदना को अपनी राजधानी बनाया। 1012 ई:  में आनंदपाल की मृत्यु के बाद, उसका पुत्र त्रिलोचनपाल सिंहासन पर चढ़ा। महमूद गजनवी उसे अपने अधीन करना चाहता था। इसलिए उसने 1014 ईस्वी में नंदना पर हमला किया। त्रिलोचनपाल हार गया और कश्मीर भाग गया।

बारहवाँ आक्रमण 1014 ई : ( Twelfth Invasion 1015)-

महमूद गजनवी ने त्रिलोचनपाल को गिरफ्तार करने के इरादे से कश्मीर पर आक्रमण किया। त्रिलोचनपाल क्लिंगर भागने में सफल हो गया । महमूद ने कश्मीर में खूब लूटपाट की।

तेरहवें आक्रमण 1018 ई: ( Thirteenth Invasion 1018)-

महमूद गजनवी ने 1018 ई : में सबसे पहले मथुरा पर आक्रमण किया। यहां उसने कई मंदिरों को लूटा और नष्ट कर दिया। इसके बाद, उनके सैनिक रास्ते में विभिन्न स्थानों पर लूटपाट करते हुए, कन्नौज पहुंचे। उन दिनों उत्तर भारत में कन्नौज सबसे प्रसिद्ध राज्य था। राजा राजपाल बहुत डरपोक थे। उसने बिना किसी लड़ाई के महमूद के अधिकार को स्वीकार कर लिया। महमूद गजनवी ने तब कस्बे और मंदिरों में भीषण लूटपाट की।

चौदहवाँ हमला 1019 ई : ( Fourteenth Invasion 1019)-

कन्नौज के शासक राज्यपाल द्वारा महमूद गजनवी को स्वीकार किए जाने पर राजपूतों को अपमानित महसूस हुआ। कलिंग के शासक गंड के पुत्र विद्याधर ने अपमान का बदला लेने के लिए कन्नौज पर हमला किया। गवर्नर युद्ध में मारा गया था।

महमूद गजनवी इसे कभी सहन नहीं कर सका। अतः महमूद गजनवी ने 1019 ई: में कलिंग पर आक्रमण किया। राजा गंड ने महमूद के साथ एक समझौता किया और उसे अपार धन देने के लिए तैयार हो गया।

पंद्रहवाँ आक्रमण 1020 ई : ( Fifteenth Invasion 1020)-

ग्वालियर के शासक अर्जुन ने महमूद गजनवी के खिलाफ कलिंग शासक का समर्थन किया था। महमूद गजनवी इसे कैसे सहन कर सकता था? उसने 1020 ई: में ग्वालियर पर आक्रमण किया। अर्जुन ने कुछ विरोध के बाद महमूद की अधीनता स्वीकार कर ली।

16 वीं आक्रमण 1025 ई : ( Sixteenth Invasion 1025)-

सोमनाथ (गुजरात) भारत पर महमूद गजनवी के हमलों में सबसे प्रसिद्ध था। यह महमूद गजनवी का 16 वां हमला था और इसे 1025 ईस्वी में अंजाम दिया गया था। सोमनाथ का मंदिर अपनी विशालता और अपार धन के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध था।

इस मंदिर में 1000 ब्राह्मण, 500 देवदासियां ​​और 200 संगीतकार हमेशा भगवान सोमनाथ की पूजा के लिए मौजूद रहते थे। मंदिर में प्रतिदिन सैकड़ों भक्तों का हुजूम उमड़ता था, और बहुत सारा धन जमा हो जाता था।

इस मंदिर के रखरखाव के लिए दस हजार गाँव की भूमि आवंटित की गई थी। इसके अलावा, मंदिर में एक बहुत बड़ी घंटी थी जो कई टन सोने से बनी थी। सोमनाथ की मूर्ति और उस पर बनी छतरी कीमती हीरे और जवाहरात से जड़ा हुआ था। इस प्रकार इस अकेले मंदिर में इतनी संपत्ति थी कि महमूद ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था।

महमूद गजनवी की चर्च दृष्टि लंबे समय से इस मंदिर से जुड़ी हुई थी। उसने सोमनाथ पर हमला करने के इरादे से 17 अक्टूबर, 1025 ई. को ग़ज़नवी को छोड़ दिया। हमले के समय उनके पास 80,000 पैदल सेना और 30,000 घुड़सवार थे। वह बिना किसी विरोध के मुल्तान और राजस्थान होते हुए गुजरात की राजधानी अनिलवार पहुँच गए। संकट के इस समय में, गुजरात के शासक भीमदेव ने अपनी राजधानी छोड़ दी।

इस प्रकार महमूद गजनवी को सोमनाथ मंदिर में आसानी से लूटा गया और पूरी तरह से नष्ट कर दिया गया। महमूद गजनवी को लूट के रूप में सोमनाथ के मंदिर से अपार हीरे, जवाहरात, सोना और चाँदी मिले। सोमनाथ की जीत निस्संदेह महमूद गजनवी की सबसे बड़ी सैन्य उपलब्धि थी।

सत्रहवाँ आक्रमण 1027 ई : ( Seventeenth Invasion 1027)-

जब महमूद गजनवी सोमनाथ से गजनी लौट रहा था, तो उसे मुल्तान के जाटों ने रोक दिया था। उस समय महमूद गजनवी ने जट्ट के साथ युद्ध करना उचित नहीं समझा। महमूद गजनवी ने 1027 ई. में जट्ट को सबक सिखाने के लिए मुल्तान पर आक्रमण किया।

जट्ट ने महमूद गजनवी का सामना किया लेकिन अंत में हार गया। महमूद ने उन्हें बड़ी संख्या में मार डाला। उनके घरों को लूट लिया गया और उनकी महिलाओं और बच्चों को गुलाम बना लिया गया। यह महमूद गजनवी का भारत पर अंतिम हमला था।

महमूद गजनवी के हमलों का निशाना ( Motives Of Mahmud GhaznavI ‘s Invasions)

महमूद के हमलों का उद्देश्य क्या था? इस संबंध में इतिहासकारों के तीन प्रचलित विचार हैं। केवल तीनों की उचित बैठक के माध्यम से ही हम सही निर्णय पर पहुँच सकते हैं। पहला विचार यह है कि वह एक लालची चोर था।

इसलिए उसने सिर्फ लूट के लिए भारत पर कई हमले किए। एक अन्य दृष्टिकोण के अनुसार, उसने इस्लाम के प्रचार के लिए युद्ध लड़े। तीसरे दृष्टिकोण के अनुसार, उनके हमले का उद्देश्य न तो धन जुटाना था और न ही उपदेश देना था।

वास्तव में, वह एक राजनीतिक मकसद से प्रेरित था। वे आक्रमण करके एक विशाल साम्राज्य की नींव रखना चाहते थे। प्रत्येक विचारधारा की पुष्टि और खंडन में विद्वानों ने अपने विचार सामने रखे हैं।

धन लूटमार ( Plundering)-

अधिकांश इतिहासकारों के अनुसार, महमूद एक महान लुटेरे थे और भारत पर उनके हमलों का एकमात्र उद्देश्य भारत के धन को लूटना था। वास्तव में, उन दिनों गजनी एक बंजर और पहाड़ी क्षेत्र था और इसके लोग बहुत गरीब थे।

बाहर से पैसा न मिलने से यहां जीवन नहीं चल सकता था। महमूद ने भारत से इस धन को लूटने की योजना बनाई जिसे उस समय गोल्डन स्पैरो कहा जाता था। यदि महमूद के सातारा हमलों का सावधानीपूर्वक अध्ययन किया जाता है, तो महमूद ने अपने प्रत्येक हमले के बाद लूटपाट पर अधिक ध्यान केंद्रित किया।

हिंदू शासक जयपाल ने 2.5 लाख दीनार देकर महमूद से छुटकारा पाया। अगर महमूद को पैसों का लालच नहीं होता, तो वह कभी जयपाल को मुक्त नहीं करता। उसने केवल उन स्थानों पर हमला किया जहां उसे अपार धन मिलने की आशा थी। यदि उसका उद्देश्य केवल इस्लाम फैलाना था, तो उसने कांगड़ा और सोमनाथ के मंदिरों को निशाना नहीं बनाया होगा।

उनके चरित्र के अध्ययन से यह भी पता चलेगा कि वह एक लालची व्यक्ति था। उन्होंने महान कवि फिरदौसी को साठ हजार सोने की अशर्फियां नहीं दीं, जैसा कि उनके शाहनामे में दिया गया था। इसी तरह, यह कहा जाता है कि उसकी मृत्यु के समय, वह उस धन पर रोया था जो उसने जमा किया था। केवल बहुत लालची और स्वार्थी राजा ही ऐसा कर सकता था।

धार्मिक उद्देश्य ( Religious Motive)-

कुछ इतिहासकारों का मानना ​​है कि इस्लाम के प्रचार के एकमात्र उद्देश्य से महमूद ने भारत पर आक्रमण किया। इन इतिहासकारों में उत्बी प्रमुख है। वह लिखते हैं कि हिंदू मंदिरों को नष्ट करने और इस्लाम का प्रचार करने के लिए महमूद ने इस देश पर आक्रमण किया। उनके अनुसार, महमूद के हमले जिहाद थे। उन्होंने इस दृष्टिकोण के समर्थन में इन तथ्यों को प्रस्तुत किया।

उन्होंने मंदिरों और मूर्तियों को हटाने में विशेष उत्साह दिखाया। मंदिर और मूर्तियाँ हिंदू धर्म के प्रतीक थे। उनको तोड़कर वह मूर्ति पूजा के पाखंड से हिंदुओं को अवगत कराना चाहते थे।

वह इस्लाम का उल्लंघन करने वालों को दंड देने के लिए ग़ज़नी से लौटता था। उदाहरण के लिए, नव परिवर्तित मुस्लिम सुखपाल फिर से हिंदू बन गया, इसलिए वह तुरंत अपने सैनिकों के साथ भारत आ गया। जब तक नवांश को कैद नहीं किया गया था, तब तक उसने राहत की सांस नहीं ली।

महमूद गजनवी को इस्लाम का प्रचारक नहीं कहा जा सकता। इसके लिए कई कारण हैं। प्रो. हबीब के अनुसार, इस्लाम इस अनुचित कृत्य की अनुमति नहीं देता जैसा कि महमूद ने भारत में किया था। दूसरे, यदि यह मान लिया जाए कि वह इस्लाम का प्रचार करना चाहता था, तो इसके वास्तविक परिणाम उसके विरुद्ध हैं। जिन लोगों ने अपने पूजा स्थलों को लूट लिया था, जिनके रिश्तेदारों को ग़ुलाम बनाकर ग़ज़नी ले जाया गया था, उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग का अनुसरण नहीं किया जा सका। इसलिए वह उपदेश देने में असफल रहा।

तीसरा, महमूद के हमलों की क्रूरता के डर से जो लोग इस्लाम में परिवर्तित हुए, उनमें से अधिकांश मुसलमान बन गए। चौथा, उनके हमलों का शिकार हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्मों के राजा थे।

जैसा कि उन्होंने धर्म का सहारा लिया ताकि उनकी सेना में अधिकतम संख्या में सैनिक भर्ती हों और वे बड़े पैमाने पर लूटपाट का कार्यक्रम चला सकें। इस तर्क को देखते हुए, यह कहा जा सकता है कि महमूद के हमलों का उद्देश्य प्रचार नहीं था।

राजनीतिक मंशा ( Political Motive)-

कुछ इतिहासकारों का मानना ​​है कि महमूद एक महान योद्धा था। प्रत्येक महान योद्धा की तरह, वह नए क्षेत्रों को जीतना चाहता था और अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था। इसलिए, उन्होंने राजनीतिक उद्देश्यों के लिए भारत पर बार-बार हमला किया। इन हमलों में, हालांकि उन्होंने इस्लाम का प्रचार किया और धन लूटा, उनका मुख्य उद्देश्य युद्ध जीतना था। इस दृष्टिकोण के समर्थन में उन्होंने निम्नलिखित तर्क प्रस्तुत किए।

उन्होंने भारत में हिंदू राजाओं के साथ-साथ मुस्लिम राजाओं से भी युद्ध किया। उसने फतेह दाऊद को एक मुसलमान के रूप में लड़ा और करमाथिया जनजाति का था। अगर महमूद इस्लाम के प्रचार के इरादे से हमला करता, तो वह मुस्लिम राज्य के खिलाफ युद्ध छेड़ देगा।

मध्य एशिया के शासक जिनके साथ लड़े, वे न केवल हिंदू धर्म के अनुयायी थे, बल्कि इस्लाम के अनुयायी भी थे। उसने पंजाब को गजनी साम्राज्य के लिए खंडित कर दिया। यदि उसका उद्देश्य केवल धन की लूट करना था, तो उसे पंजाब को अपने साम्राज्य में संलग्न करने की आवश्यकता नहीं थी।

यह भी माननेयोग नहीं है कि महमूद ने किसी राजनीतिक उद्देश्य के लिए भारत में हमले किए। यह सच है कि उन्होंने पंजाब को अपने साम्राज्य में मिला लिया। लेकिन उन्होंने पंजाब को छोड़कर भारत के किसी अन्य हिस्से में प्रवेश नहीं किया। 

निष्कर्ष ( Conclusion)-

उपरोक्त तीन विचारों के गहन अध्ययन के बाद, हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि गजनवी वास्तव में एक डाकू था। इसलिए कई तर्क सामने रखे गए हैं।

उनके अधिकांश हमले उन जगहों पर हुए जो समृद्ध थे। उन्होंने प्रत्येक हमले के बाद लूटपाट की। वह पैसे लेकर कैदियों को रिहा कर देता था। उन्होंने सोमनाथ मंदिर को निशाना बनाया क्योंकि उन्हें इससे अधिक धन मिल सकता था और कोई अन्य स्थान इतना समृद्ध नहीं था।

मुल्तान से सोमनाथ तक सड़क पर हजारों मंदिर होंगे, लेकिन महमूद ने उन्हें निर्देशित नहीं किया। उनकी नजर सोमनाथ के मंदिर पर टिकी थी। वह अन्य मंदिरों के साथ क्या करेगा? उनमें से कौन सा उसे मिलेगा? इसलिए वह धर्म का प्रचार नहीं करना चाहता था न ही वह साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था।

उनके हमलों ने भारत के जीवन और मूल्यवान वस्तुओं को नष्ट कर दिया। डॉ .जे. एल. मेहता यह कहने में सही हैं कि महमूद एक लालची व्यक्ति था जो पैसे के लिए रहता था और इसके लिए मर गया।

source: history books

Leave a Comment