राष्ट्रीय शक्ति क्या है? और राष्ट्रीय शक्ति का अर्थ और परिभाषा

एक राष्ट्र की शक्ति अन्य राष्ट्रों को प्रभावित करने की उसकी क्षमता है। सत्ता के बिना राज्य की कल्पना करना बेकार है। शक्ति ही राष्ट्र के उत्थान और पतन का कारण है। शक्ति के आधार पर ही किसी राष्ट्र को शक्तिशाली या कमजोर कहा जा सकता है।

इसी शक्ति के आधार पर एक राष्ट्र की तुलना दूसरे राष्ट्र से की जाती है। इसी शक्ति के आधार पर प्रत्येक राष्ट्र अपने संसाधनों के अनुसार अपनी विदेश नीति बनाता है। आज हर राष्ट्र प्रयास करता है कि कोई दूसरा राष्ट्र उसे पार न कर सके।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हर क्षेत्र सत्ता संघर्ष से त्रस्त है।अमेरिका और रूस जैसे बड़े देश लगातार अपनी ताकत बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। शक्ति के आधार पर भी, महान राष्ट्र संयुक्त राष्ट्र और उसके पर हावी हैं।

Read Also: अंतरराष्ट्रीय संबंधों पर आदर्शवादी और यथार्थवादी दृष्टिकोण

राष्ट्रीय शक्ति का अर्थ

राष्ट्रीय शक्ति का अर्थ समझने के लिए शक्ति की अवधारणा को समझना आवश्यक है। तो सबसे पहले हमें शक्ति का अर्थ जानना होगा।

1.मार्गंथो (Morgenthau) शक्ति एक सामाजिक संबंध के द्वारा अन्य लोगों के मन और भावनाओं को प्रभावित करने की क्षमता रखता है।(By power we mean the power of man over the minds and actions of other men in social contact with one another) इस दृष्टिकोण से, राष्ट्रीय शक्ति एक राष्ट्र की क्षमता है जिसके द्वारा वह अन्य राष्ट्रों को प्रभावित करता है, अपनी स्वयं की आकांक्षाओं का पालन करता है।

2.महेंद्र कुमार(M. Kumar) भाजपा के शब्दों में, राष्ट्रीय शक्ति एक राष्ट्र की इच्छा पर अन्य राज्यों के व्यवहार को नियंत्रित करने की क्षमता रखता है।(It can also be defined as the ability to control the behaviour of other states in accordance with one’s will)

3.अर्गुस्की (Organski) शक्ति की व्याख्या करते हुए उन्होंने लिखा है कि शक्ति दूसरे राष्ट्र के आचरण को उसके उद्देश्य के अनुसार प्रभावित करने की क्षमता है। जब तक कोई राष्ट्र ऐसा नहीं कर सकता, चाहे वह कितना भी बड़ा या समृद्ध क्यों न हो, उसे एक शक्तिशाली राष्ट्र नहीं कहा जा सकता।

4.जॉर्ज स्वेर्गेनबर्गर( George Schwarzenberger) शक्ति को परिभाषित करते हुए उन्होंने लिखा है कि शक्ति वह क्षमता रखता है जिसके द्वारा एक की इच्छा का पालन दूसरे द्वारा नहीं किया जाता है और प्रभावी नियंत्रण के साथ लगाया जाता है। (Capacity to impose one’s will on other by reliance on effective sanction in case of non – Compliance.)

Read Also: संप्रभुता क्या है ? संप्रभुता के तत्व और इसके प्रकार !

5.आर.एच. टोनी (R.H. Towny) के शब्दों में, शक्ति किसी व्यक्ति या समूह की अपनी इच्छाओं के अनुसार कार्य करने की क्षमता रखता है।( Power is the capacity of an individual or group in the manner which it desires.)

6. एइम . जी . समिथ (M.G.Smith)शक्ति लोगों और वस्तुओं पर बल या प्रोत्साहन के माध्यम से प्रभावी ढंग से काम करने की क्षमता रखता है। (Power is the ability to act effectively over people and things using means ranging from persuasion to coercion.)

7.लासवेल और कैपलान (Lasswell and kaplan) सार्वजनिक निर्णय लेने में भाग लेने को शक्ति को कहा जाता है।(Power is participation in the making of decision)। वे प्रभाव को एक विशेष स्थिति मानते हैं। उनके शब्दों में शक्ति को प्रभाव में लागू करने की एक विशेष शर्त है। यह इच्छित नीतियों की अवज्ञा करने और भारी नुकसान पहुँचाने या इस तरह की धमकियों की मदद से दूसरों की नीतियों को प्रभावित करने का कार्य है।(Power is a special case of exercise of influence the process of effecting on others with the help of actual or threatened, severe deprivations for non- conformity with politics intended.)

8. कारल ड्डियुस ( karl Deutch) उनके शब्दों में, शक्ति प्रतिरोध में सफल होने और बाधाओं को दूर करने की क्षमता रखती है।(Power is the ability to prevail on conflict and overcome obstacles.)

9. रॉबर्ट डाहल (Robert Dahl) के शब्दों में, शक्ति को आमतौर पर प्रभाव की एक विशेष स्थिति के रूप में परिभाषित किया जाता है। जिसकी अवज्ञा करने से भारी नुकसान उठाना पड़ता है।(Power is often defined as special case of influence involving severe losser for non- compliance.)

10. गोल्डहमार और सिल्स (Gold hammer and Should) के शब्दों में, एक व्यक्ति उतना ही शक्तिशाली माना जाता है, जितना वह अपने उद्देश्य से दूसरे के व्यवहार को प्रभावित करता है।(A person may be said to have power to the extent, that he influences the behaviour of others,in accordance with his intentions.)

11. प्रो: मैकाइवर (Maclver) के शब्दों में ,शक्ति से हमारा तात्पर्य किसी व्यक्ति या व्यवहार को नियंत्रित, विनियमित या निर्देशित करने की क्षमता से है। ( By the possession of power we mean the capacity to centralize, regulate of direct the behaviour of person or things.)

12. फ्रेडरिक और शुमैन ( Fredrick and Schuman) उनके अनुसार, शक्ति में दोस्त बनाने और लोगों को प्रभावित करने की क्षमता है।(Power is ability to win friends and influence people.)

13. एलन आर. बाल (Allan R. Ball)उनके अनुसार राजनीतिक सत्ता में किसी भी प्रकार की सजा के भय से दूसरों के व्यवहार को प्रभावित करने की क्षमता होती है।(Political power is the capacity to affect others behaviour by the threat of some form of sanction.)

Read Also: भारतीय राजनीतिक दलों की समस्याएं

राष्ट्रीय शक्ति का परिभाषा

शक्ति के अर्थ का अध्ययन करने के बाद, यह कहा जा सकता है कि राष्ट्रीय शक्ति किसी राष्ट्र के हित को प्राप्त करने की क्षमता और क्षमता है, अर्थात किसी राष्ट्र की शक्ति, क्षमता, प्रभाव या क्षमता के व्यवहार में अपने राष्ट्रीय हित को आधार बनाने की क्षमता है।

1.हार्टमैन(Hartman)उनके अनुसार, राष्ट्रीय शक्ति दर्शाती है कि एक राष्ट्र कितना शक्तिशाली है। अपने राष्ट्रीय उद्देश्यों को पूरा करने में इसकी कितनी क्षमता है।( National power makes us realise that how much a particular nation is powerful or capable, How much it is capable of fulfilling his national objectives.)

2.मार्गंथो(Morgenthau) उनके अनुसार, राष्ट्रीय शक्ति एक राष्ट्र की शक्ति है जिसके आधार पर व्यक्ति अन्य राष्ट्रों के मामलों, व्यवहार और नीतियों पर प्रभाव और नियंत्रण स्थापित करना चाहता है। National Power is that power of a nation on the basis of which any person tries to influence and control the functions, behaviour and policies of other nations.)

3.अर्गुस्की( Organski) राष्ट्रीय शक्ति एक राष्ट्र की अपने स्वयं के लक्ष्यों के अनुरूप अन्य राष्ट्रों के व्यवहार को प्रभावित करने की क्षमता है।( National power is the ability of nation to influence the behaviour of other in accordance with it’s own ends.)

Read Also: भारतीय दलीय व्यवस्था की विशेषता, और भारतीय दल प्रणाली की प्रकृति

4.पैडलफोर्ड और लिंकन( Padelford and Lincoln) उनके अनुसार, राष्ट्रीय शक्ति राज्य की क्षमता और शक्ति का एक संयोजन है, जिसका उपयोग राज्य अपने राष्ट्रीय हितों और उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए करता है।( National power is that combination of power and ability of a state which the state uses for fulfilling its national interest and goals.)

स्रोत: विकिपीडिया

Leave a Comment