Skip to content

नेशनल पेंशन योजना (NPS) क्या है?

नेशनल पेंशन योजना (NPS) क्या है?

आइये इस आर्टिकल में हम जानते है की नेशनल पेंशन योजना (NPS) क्या है? और इसके फायदे क्या है?

जैसा की हम सभी जानते है सभी लोगों को आपने रिटारमेंट की चिंता लगी रहती है की उनका रिटारमेंट के बाद जीवन कैसा होगा। आपने फ्यूचर को लेकर यह सोचना गलत बात नहीं है। यह हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चूका है। इसी बात को ध्यान में रख कर नेशनल पेंशन योजना का निर्माण किया गया है। अगर आप अपने फ्यूचर को लेकर चिंतित है और आपने आपने आने वाले कल को सुरक्षित करना चाहते है तो आपको NPS के बारे में अवश्य ही पता होना चाहिए। 

इस योजना की शुरुआत जनवरी 2004 में सरकारी कर्मचारियों के लिए की गई थी किन्तु 2009 में इसको अन्य सभी वर्गों के लोगो के लिए भी शुरू कर दिया गया।  ताकि अन्य सभी लोग भी इसका लाभ उठा सके। 

इस पेंशन योजना के अंतर्गत आप आपने काम कार्य के अवश्था के अंतर्गत तक आपने वेतन का कुछ भाग जमा कर सकते है और 60 की उम्र पूरी होने के बाद जमा की गयी राशि के एक हिस्से को एक बार निकल सकता है और बाकि बची हुए राशि को वो आपने पेंशन के रूप में प्रति माह प्राप्त कर सकता है। 

अगर हम NPS की बात करे तो यह योजना पहले केवल केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए ही थी। किन्तु अब पीएफआरडीए ने स्वैच्छिक आधार पर सभी नागरिको के लिए इसे खोल दिया है। 

नेशनल पेंशन योजना के लिए योग्यता (Eligibility for the scheme):-

इसमें कोई भी भारतीय नागरिक जो 18 से 60 वर्ष का हो इस स्कीम में निवेश कर सकता है। वहीं नॉन रेजिडेंट इंडियन (NRI) भी इस स्कीम में निवेश कर सकता है।

NPS खातों के प्रकार (Types of NPS Accounts):-

NPS में दो तरह के खाते होते हैं, जिसे की हम टियर 1 और टियर 2 के नाम से जाना जाता है। टियर 1 में 60 साल की उम्र तक फंड विद्ड्रॉल नहीं किया जा सकता है। वहीं टियर 2 में ग्राहक एक बचत खाते की तरह जरूरत के हिसाब से पैसा निकाल सकता है।

NPS में होने वाले फायदे:- 

  1. NPS से अंतिम निकासी पर भुगतान की छूट की सीमा 60 फीसदी है।
  2. NPS ट्रस्ट को पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) से अलग रखा गया है।
  3. सरकारी कर्मचारियों के खातों में सरकार की तरफ से 14 फीसदी योगदान दिया जाता है।
  4. NPS ग्राहक रुपये की कुल सीमा में इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80CCD (1) के तहत ग्रॉस इनकम का 10 फीसदी तक टैक्स में डिडक्शन क्लेम कर सकता है।
  5. एन्युटी की खरीद में निवेश की गई राशि भी पूरी तरह कर मुक्त होती है।

नेशनल पेंशन योजना खता कैसे खोला जाता है :-

NPS खाता खोलने के दो तरीके हैं, ऑफलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरीके से आप अपना खाता खोल सकते है।  

  • ऑफलाइन खाता खोलने के लिए एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक जैसे नजदीकी पीओपी (पॉइंट ऑफ प्रेजेंस) सेंटर पर जाएं। 
  • वहां एक सब्सक्राइबर फॉर्म लें और इसे केवाईसी पेपर्स के साथ जमा करें। 
  • टियर 1 में प्रारंभिक निवेश न्यूनतम 500 रुपये और टियर 2 में न्यूनतम 1 हजार रुपये से शुरू कर सकते हैं।  हालांकि सालाना टियर 1 खाते में आपको 1 हजार और टियर 2 में 250 रुपये का कम से कम योगदान करना अनिवार्य है। 
  • निवेश के बाद पीओपी आपको एक PRAN (स्थायी रिटायरमेंट खाता संख्या) देगा।  इस संख्या और पासवर्ड की मदद से खाते को चलाया जा सकता है और अपना कांट्रिब्यूशन ऑनलाइन भी देख सकते हैं। 
  • इस प्रक्रिया के लिए आपको 125 रुपये का भुगतान करना होगा। 

Read Also: राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना आवदेन पात्रता और लाभ।

ऑनलाइन नेशनल पेंशन योजना खाता कैसे खोले :-

  • सबसे पहले आप NPS ट्रस्ट की वेबसाइट पर जाएं।  https://www.npstrust.org.in/content/open-your-nps-account-online
  • इसके बाद आप इंडीविज्युअल कैटेगरी पर क्लिक करें। 
  • फिर आधार या पैन नंबर दर्ज करें।  आपको मोबाइल पर इससे संबंधित वन टाइम पासवर्ड आएगा।  इसके बाद इसे  वेरीफाई कर दें। 
  • इसके बाद आप एकनॉलेजमेंट नंबर लेने के लिए जानकारी को सबमिट करें। 
  • पेंशन फंड मैनेजर का चुनाव करें, फिर निवेश का माध्यम चुनें। 
  • उसके बाद नॉमिनी का चुनाव करना होगा। 
  • फोटो और हस्ताक्षर अपलोड करें। 
  • इसके बाद टियर-I अकाउंट में कम से कम 500 रुपये और टियर-II अकाउंट में कम से कम 1000 रुपये का शुरुआती निवेश जरूरी है। 

अगर आपको कई बार किसी कारणवश अपना नॉमिनी बदलना हो तो भी आप आपने नॉमिनी अपनी मर्जी से बदल सकते है। 

Read Also:प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना | PMSS ऑनलाइन आवेदन, पीएम स्कॉलरशिप रजिस्ट्रेशन

Leave a Reply

Your email address will not be published.