अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति क्या हैं?

अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति क्या हैं? अगर आप भी इस सवाल के जबाब की तलाश में है तो हमारा ये आर्टिकल आपके अंतरराष्ट्रीय राजनीति और राजनीति के बीच का आपसी संबंध की साड़ी दुबिधा को समाप्त कर देगा।

अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति क्या हैं?

अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति को समझने के लिए राजनीति शब्द पर विचार करना आवश्यक है। क्योंकि, मार्गंथो के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय राजनीति सामान्य राजनीति की तरह है। उनके अनुसार अंतरराष्ट्रीय राजनीति अन्य राजनीति की तरह सत्ता के लिए संघर्ष है।

अंतरराष्ट्रीय राजनीति का अंतिम लक्ष्य कुछ भी हो, उसका तात्कालिक लक्ष्य सदैव सत्ता ही होता है। मार्गंथो के कथन से स्पष्ट है कि अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति का स्वरूप सत्ता के लिए संघर्ष के अतिरिक्त और कुछ नहीं है। 

अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति को हमने कुछ बिन्दुओ में विस्तारपूर्वक बांटा है, आइये जानते है विस्तार से।

  1. राज्य अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य कार्यकर्त्ता हैं
  2. शक्ति अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य उपकरण है
  3. अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय हित है
  4. विभिन्न विवादों को अंतरराष्ट्रीय राजनीति के माध्यम से सुलझाया जाता है
  5. विवाद और संघर्ष
  6. विभिन्न राज्यों में बातचीत
  7. उद्देश्यों और संसाधनों के संदर्भ में अंतरराष्ट्रीय राजनीति
  8. अंतरराष्ट्रीय राजनीति एक सतत प्रक्रिया है
  9. विश्लेषणात्मक और वैज्ञानिक अध्ययन

Read Also: अंतरराष्ट्रीय राजनीति का अर्थ, प्रकृति, एवं क्षेत्र की विवेचना | Meaning, Nature And Scope of International Politics in hindi

1.राज्य अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य कार्यकर्त्ता हैं

राज्य अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक प्रमुख खिलाड़ी है। पूरी अंतरराष्ट्रीय राजनीति इन्हीं राज्यों के इर्द-गिर्द घूमती है। राज्य के साथ-साथ, कुछ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संगठन भी अंतरराष्ट्रीय राजनीति में शामिल हैं। जिस तरह राजनीति विभिन्न समूहों या गुटों के बीच बातचीत की एक प्रक्रिया है, उसी तरह अंतरराष्ट्रीय राजनीति विभिन्न संप्रभु राज्यों के बीच बातचीत की एक प्रक्रिया है। पिछले कुछ वर्षों में, ऐसे समूह या संस्थान उभरे हैं जो अंतरराष्ट्रीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं, फिर भी राज्य अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक प्रमुख खिलाड़ी बना हुआ है।

Read Also: संप्रभुता क्या है ? संप्रभुता के तत्व और इसके प्रकार !

2.शक्ति अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य उपकरण है

अंतरराष्ट्रीय राजनीति में शक्ति को एक प्रमुख उपकरण माना जाता है। अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में मुख्य कर्ता लगातार अपने राष्ट्रीय हितों का पीछा कर रहे हैं, जिसके लिए वे सत्ता को एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इसलिए हर राज्य सत्ता पाना चाहता है, उसे बनाए रखना और बढ़ाना चाहता है। प्रत्येक राज्य अपनी राष्ट्रीय शक्ति के माध्यम से अपने राष्ट्रीय हितों को पूरा करने का प्रयास करता है और यदि आवश्यक हो, तो अपनी राष्ट्रीय शक्ति द्वारा दूसरे राष्ट्र के कार्यों और व्यवहार को प्रभावित करने, नियंत्रित करने और नियंत्रित करने का प्रयास करता है। इस प्रकार यह स्पष्ट है कि यह अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक प्रमुख उपकरण बन गया है। जिससे हर राज्य हमेशा अपनी शक्ति को अधिक करने का प्रयास करता है।

Read Also: राज्य के कामकाज संबंधी मार्क्सवादी या समाजवादी सिद्धांत ( Marxist Or Socialist Theory Of The Functions Of State in Hindi):-

3.अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय हित है

अंतरराष्ट्रीय राजनीति का मुख्य उद्देश्य विभिन्न राज्यों द्वारा राष्ट्रीय हितों की खोज करना है। विभिन्न राज्य जो एक दूसरे के साथ गठबंधन बनाते हैं, उनका एक ही उद्देश्य होता है और वह है राष्ट्रीय हित को प्राप्त करना। विभिन्न राज्यों के बीच परस्पर क्रिया राष्ट्रीय हित के आधार पर निर्धारित होती है। अतः हम कह सकते हैं कि अंतरराष्ट्रीय राजनीति एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा प्रत्येक राज्य बदलते परिवेश में अपने हितों को प्राप्त करने का प्रयास करता है।

Read Also: उदारवाद क्या है? और उदारवाद का रूप

4.विभिन्न विवादों को अंतरराष्ट्रीय राजनीति के माध्यम से सुलझाया जाता है

अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रकृति को इस अर्थ से देखा जाता है कि यह अंतरराष्ट्रीय विवादों को हल करने का प्रयास करती है। अंतरराष्ट्रीय राजनीति राज्यों में विभिन्न विवादों को सुलझाने का प्रयास करती है। अंतरराष्ट्रीय राजनीति विवादों और संघर्षों पर आधारित है। यदि राज्यों के बीच कोई विवाद नहीं है, तो अंतरराष्ट्रीय राजनीति की प्रासंगिकता खो जाएगी। इसलिए अंतरराष्ट्रीय राजनीति के लिए विवाद और संघर्ष होना चाहिए। हालांकि यह सच है कि विवाद और संघर्ष अंतरराष्ट्रीय स्तर पर राज्यों के बीच कड़वाहट पैदा करते हैं, यहां यह भी उल्लेखनीय है कि इन विवादों और संघर्ष की आशंकाओं के कारण ही विभिन्न राज्य सहयोग करने को तैयार हैं। 

Read Also: राज्य के कामकाज संबंधी मार्क्सवादी या समाजवादी सिद्धांत ( Marxist Or Socialist Theory Of The Functions Of State in Hindi):-

5.विवाद और संघर्ष

जैसा कि हमने पहले ही ऊपर उल्लेख किया है, अंतरराष्ट्रीय राजनीति विभिन्न राज्यों में मौजूद संघर्षों और संघर्षों को समाप्त करने का प्रयास करती है। तो यह स्पष्ट है कि अंतरराष्ट्रीय राजनीति में विवाद और संघर्ष हैं। अंतरराष्ट्रीय राजनीति में, विभिन्न राज्यों के अलग-अलग राष्ट्रीय हित और उद्देश्य होते हैं, जिन्हें प्राप्त करने के लिए राज्य लगातार प्रयास करते हैं, जिससे कभी-कभी राज्यों के बीच विवाद और संघर्ष होते हैं। विभिन्न राज्य तर्कसंगत और अनुचित तर्क के माध्यम से अपने राष्ट्रीय हित को प्राप्त करने का प्रयास करते हैं।

Read Also: राजनीति विज्ञान का अर्थ, परिभाषा, क्षेत्र और महत्व। ( what is Political Science in hindi? )

6.विभिन्न राज्यों में बातचीत

अंतरराष्ट्रीय राजनीति विभिन्न राज्यों के बीच निरंतर संपर्क की एक प्रणाली है। अंतरराष्ट्रीय राजनीति से विवाद और संघर्ष को पूरी तरह खत्म नहीं किया जा सकता है। लेकिन इन विवादों और संघर्षों को कम करने के लिए आपसी समन्वय और सामंजस्य की आवश्यकता होती है जो विभिन्न राज्यों को निरंतर संपर्क की स्थिति में रखता है।

Read Also: भारतीय राजनीति में जातिवाद की भूमिका क्या है

7.उद्देश्यों और संसाधनों के संदर्भ में अंतरराष्ट्रीय राजनीति

अंतरराष्ट्रीय राजनीति में शक्ति का उपयोग लक्ष्य और साधन दोनों के रूप में किया जाता है। अंतरराष्ट्रीय राजनीति में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए हर राज्य ज्यादा से ज्यादा ताकत हासिल करना चाहता है। साथ ही, वह अपने राष्ट्रीय हित को प्राप्त करने के लिए एक उपकरण के रूप में शक्ति का उपयोग करता है। अत: यह स्पष्ट है कि अंतरराष्ट्रीय राजनीति में शक्ति का प्रयोग लक्ष्य और साधन दोनों के रूप में किया जाता है।

8.अंतरराष्ट्रीय राजनीति एक सतत प्रक्रिया है

अंतरराष्ट्रीय राजनीति एक सतत प्रक्रिया है क्योंकि विभिन्न राज्यों में विवाद जारी है । अंतरराष्ट्रीय राजनीति इन विवादों को सुलझाने का प्रयास करती है।

Read Also: राज्य विधान सभा क्या है? और विधान सभा की शक्तियाँ एवं कार्य क्या है?

9.विश्लेषणात्मक और वैज्ञानिक अध्ययन

अंतरराष्ट्रीय राजनीति का वैज्ञानिक तरीके से अध्ययन किया जाता है। स्टुअर्ट चांस, जे. डब्ल्यू बर्टन और मार्गंथो जैसे विद्वानों का मत है कि अंतरराष्ट्रीय राजनीति का अध्ययन विश्लेषणात्मक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से किया जाता है।

उपरोक्त विवरण से स्पष्ट है कि जहां तक ​​अंतरराष्ट्रीय राजनीति के स्वरूप का संबंध है, हम मार्गंथो के इस कथन से पूरी तरह सहमत हैं कि अंतरराष्ट्रीय राजनीति और कुछ नहीं बल्कि सत्ता के लिए संघर्ष है। अन्य संगठनों के उदय के बावजूद, राज्य अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक प्रमुख खिलाड़ी बना हुआ है। विभिन्न राज्य अपने राष्ट्रीय हितों को प्राप्त करने के लिए एक लक्ष्य और उपकरण के रूप में शक्ति का उपयोग करते हैं। अंतरराष्ट्रीय राजनीति विवाद और संघर्ष को प्रोत्साहित करती है, लेकिन इसे कुछ हद तक कम करने का भी प्रयास करती है। अंतरराष्ट्रीय राजनीति विभिन्न राज्यों के बीच परस्पर क्रिया की एक प्रणाली है।

Read Also: B.Voc Health Care Course, Eligibility, Syllabus, Career in Hindi

स्रोत : अंतराष्ट्रीय राजनीति (International Politics)

Leave a Comment